Common Myths related to Covid-19 Vaccination in Females

The Covid-19 vaccination drive in the country is one of the major steps taken for safeguarding the population against Coronavirus. There are a lot of confusions in women regarding vaccination like whether women should take vaccination during menstruation, can breastfeeding women go for vaccination, are pregnant women eligible for vaccination, are pregnant women more vulnerable for covid infection, does covid-19 vaccination affect the fertility potential of females. In this blog, we are discussing some common myths associated with Covid-19 vaccination in women.

Is covid vaccination possible during menstruation?

There is no relation between covid vaccination and menstruation. Women can choose to go for vaccination any time, i.e. during (first or second half), after, or before their menstruation begins. But if the females are in the second half of menstruation, women can wait for menstruation to begin to ensure that they are not pregnant.

Are pregnant women eligible for covid vaccination?

Recently, Indian Vaccination Taskforce guidelines have been issued and pregnant women are recommended not to go for covid vaccination. The reason might be that mRNA-based vaccines are relatively safer in pregnancy but these are not available within India. Pharma companies like Moderna and Pfizer are making such vaccines and these are available in countries like the US and as per data, these vaccines are considered safe in pregnancy. In India, two types of vaccines are available. Covaxin and Covishield. Covaxin is an inactivated vaccine produced from killed coronavirus while covishield is a viral vector vaccine made by Oxford and AstraZeneca.

RCOG (Royal College of Obstetricians and Gynecologists) which is one of the biggest organization in the UK & FOGSI (Federation of Obstetrics & Gynecological Societies of India) which is the biggest society for gynecologists in the country recommends that pregnant women should be vaccinated after explaining, considering the severity of the pandemic and especially the frontline workers who are pregnant should get vaccinated. In UK, pregnant frontline workers are being regularly getting vaccinated since 3-4 months. As no clear guidelines are received from the government till now, it is suggested to wait for a vaccination program for pregnant women.

Can breastfeeding mothers go for vaccination?

Yes, there are clear guidelines for such women who are breastfeeding. Two types of antibodies are formed after vaccination IGG and IGM antibody. IGG antibody gets into the breast milk. Thus, the child might also get protection from the IGG antibodies formed within the mother. As in our country, breastfeeding is recommended for the long term to mothers, and children up to 1 year of age are also breastfed. There is a large population of such mothers and vaccination can provide adequate protection to such mothers. Thus, such women should go for vaccination.

Is the impact of Covid very severe in pregnant women? Can vaccines reduce the impact of severity?

There was no severe impact of covid seen in females and pregnant women in the first wave of covid but in the second wave, severe impacts have been seen in pregnant women. Women infected from covid in the third trimester have chances of early delivery, death of the unborn baby, and the risk of severe covid infection increases 10 times. It is suggested that if there is any pregnant woman in the home, outsiders should be least allowed. Maintain hand hygiene and social distancing to avoid infection.

Does covid or covid vaccination impact the fertility potential of females?

There is a common myth that covid vaccination leads to infertility in females. As covid is a respiratory virus, and its impact on reproductive organs has not been identified to date as per the data, there is no impact on the fertility potential of females. Further, reputed institutions like the British Fertility Society, Indian fertility society as per the data received till now, also suggest that vaccination does not have any impact on the fertility or fertility potential of the females. It is completely safe for females.

All in All

The blog provided a detailed discussion of all such myths that are common these days regarding Covid -19 vaccination and are restricting females and pregnant women from it.

महिलाओं में कोविड -19 टीकाकरण से संबंधित सामान्य मिथक

देश में कोविड-19 टीकाकरण अभियान कोरोना वायरस से जनता की सुरक्षा के लिए उठाए गए प्रमुख कदमों में से एक है। टीकाकरण को लेकर महिलाओं में बहुत सारे भ्रम हैं जैसे कि क्या महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान टीकाकरण करवाना चाहिए, क्या स्तनपान कराने वाली महिलाएं टीकाकरण के लिए जा सकती हैं, क्या गर्भवती महिलाएं टीकाकरण के लिए योग्य हैं, क्या गर्भवती महिलाएं कोविड संक्रमण के लिए अधिक संवेदनशील हैं, क्या कोविड -19 टीकाकरण महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है। इस ब्लॉग में हम महिलाओं में कोविड -19 टीकाकरण से जुड़े कुछ सामान्य मिथकों पर चर्चा कर रहे हैं।

क्या मासिक धर्म के दौरान कोविड टीकाकरण संभव है?

कोविड टीकाकरण और मासिक धर्म के बीच कोई संबंध नहीं है। महिलाएं कोई भी समय टीकाकरण के लिए चुन सकती हैं, यानी मासिक धर्म शुरू होने के बाद (पहली या दूसरी छमाही के दौरान), या उससे पहले। लेकिन अगर महिलाएं मासिक धर्म के दूसरे भाग में हैं, तो महिलाएं यह सुनिश्चित करने के लिए मासिक धर्म शुरू होने का इंतजार कर सकती हैं कि वे गर्भवती नहीं हैं।

क्या गर्भवती महिलाएं कोविड टीकाकरण के लिए योग्य हैं?

कुछ दिनों पहले (17/6/2021), भारतीय वैक्सीनशन टास्कफोर्स के द्वारा जारी दिशा-निर्देश के अनुसार गर्भवती महिलाओं को कोविड टीकाकरण के लिए अभी सलाह नहीं दी गई है । इसका कारण यह हो सकता है कि एमआरएनए-आधारित टीके गर्भावस्था में अपेक्षाकृत सुरक्षित हैं लेकिन ये भारत में उपलब्ध नहीं हैं। मॉडर्ना और फाइजर जैसी फार्मा कंपनियां इस तरह के टीके बना रही हैं और ये अमेरिका जैसे देशों में उपलब्ध हैं और आंकड़ों के मुताबिक इन टीकों को गर्भावस्था में सुरक्षित माना जाता है। भारत में दो तरह के टीके उपलब्ध हैं। कोवैक्सिन और कोविशील्ड। कोवैक्सिन एक निष्क्रिय टीका है जो मारे गए कोरोनावायरस से उत्पन्न होता है जबकि कोविशील्ड ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका द्वारा बनाया गया एक वायरल वेक्टर वैक्सीन है।

RCOG (रॉयल कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट) जो यूके और FOGSI (फेडरेशन ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजिकल सोसाइटीज ऑफ इंडिया) भारत में सबसे बड़े स्त्री रोग विशेषज्ञों के संगठन में से एक है, यह सिफारिश करता है कि गर्भवती महिलाओं को समझाने के बाद टीका लगाया जाना चाहिए। महामारी की गंभीरता को देखते हुए और विशेष रूप से अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता जो गर्भवती हैं, उन्हें टीका लगवाना चाहिए। यूके में गर्भवती फ्रंटलाइन वर्कर्स को 3-4 महीनों से नियमित रूप से टीका लगाया जा रहा है। चूंकि अभी तक सरकार से कोई स्पष्ट दिशा-निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं, इसलिए गर्भवती महिलाओं के लिए टीकाकरण कार्यक्रम की प्रतीक्षा करने का सुझाव दिया गया है।

क्या स्तनपान कराने वाली माताएं टीकाकरण के लिए जा सकती हैं?

हां, स्तनपान कराने वाली ऐसी महिलाओं के लिए स्पष्ट दिशा-निर्देश हैं। टीकाकरण के बाद दो प्रकार के एंटीबॉडी बनते हैं IGG और IGM एंटीबॉडी। IGG एंटीबॉडी माँ के दूध में भी जाती है। इस प्रकार, बच्चे को माँ के भीतर बनने वाले IGG एंटीबॉडी से भी सुरक्षा मिल सकती है। जैसा कि हमारे देश में, माताओं को लंबे समय तक स्तनपान कराने की सलाह दी जाती है, और 1 वर्ष तक के बच्चों को भी स्तनपान कराया जाता है। ऐसी माताओं की एक बड़ी आबादी है और टीकाकरण ऐसी माताओं को पर्याप्त सुरक्षा प्रदान कर सकता है। इसलिए ऐसी महिलाओं को टीकाकरण के लिए जाना चाहिए।

क्या गर्भवती महिलाओं पर कोविड का बहुत गंभीर असर होता है? क्या टीका गंभीरता के प्रभाव को कम कर सकता है?

कोविड की पहली लहर में महिलाओं और गर्भवती महिलाओं में कोविड का कोई गंभीर असर नहीं देखा गया लेकिन दूसरी लहर में गर्भवती महिलाओं पर गंभीर असर देखने को मिला है. तीसरी तिमाही में कोविड से संक्रमित महिलाओं में समय से पहले प्रसव, अजन्मे बच्चे की मृत्यु और गंभीर कोविड संक्रमण का खतरा 10 गुना बढ़ जाता है। यह सुझाव दिया जाता है कि अगर घर में कोई गर्भवती महिला है तो बाहरी लोगों को कम से कम आने की अनुमति दी जानी चाहिए। संक्रमण से बचने के लिए हाथों की साफ-सफाई और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें।

क्या कोविड या कोविड टीकाकरण महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है?

एक आम मिथक है कि कोविड टीकाकरण से महिलाओं में बांझपन होता है। चूंकि कोविड एक श्वसन वायरस है, और प्रजनन अंगों पर इसके प्रभाव के कोई आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए इससे महिलाओं की प्रजनन क्षमता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। इसके अलावा ब्रिटिश फर्टिलिटी सोसाइटी, इंडियन फर्टिलिटी सोसाइटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थान अब तक प्राप्त आंकड़ों के अनुसार यह भी सुझाव देते हैं कि टीकाकरण का महिलाओं की प्रजनन क्षमता कोई प्रभाव नहीं पड़ता है और यह महिलाओं के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है।

डॉ निशांत दीक्षित निशांत फर्टिलिटी सेंटर के डायरेक्टर हैं, जो एक बेहद अनुभवी Reproductive Medicine Specialist/ प्रजनन चिकित्सा विशेषज्ञ हैं। डॉ. दीक्षित ने अपनी प्रोफेशनल लाइफ को दम्पतियों के माता-पिता बनने के सपने को साकार करने में मदद करने के लिए समर्पित किया है। उनका मंत्रा “LET’S MAKE YOU A FAMILY” निशांत फर्टिलिटी सेंटर (NFC) की पूरी टीम का मिशन स्टेटमेंट बन गया है। वे चिकित्सा अनुसंधान में सक्रिय रूप से शामिल हैं और उन्हें फैकल्टी के रूप में आमंत्रित किया गया है और उन्होंने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में कई लेक्चर दिए हैं।

  • Dr. Nishant Dixit
  • DNB (OBGY), MNAMS
  • Fellowship in Reproductive Medicine
  • Director, Nishant Fertility Centre
  • Reproductive Medicine Specialist